क्या है क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) ? जानिए इससे जुड़ी जरूरी बातें और कैसे कर सकते है इसमें इन्वेस्ट (Invest)-

इस आगे बढ़ते डिजिटल वर्ल्ड में करेंसी ने भी डिजिटल रूप ले लिया है और इस डिजिटल करेंसी को ही क्रिप्टोकरेंसी कहा जाता है | जैसे कि बिटकॉइन जिसका नाम आपने बहुत बार सुना है लेकिन आपको ये भी जानना चाहिए की क्रिप्टोकरेंसी क्या है और इसे कैसे यूज़ किया जाता है इसकी बेनिफिट क्या क्या होते हैं |

क्रिप्टोकुरेंसी क्या है (What is cryptocurrency) ?

क्रिप्टोकरेंसी डिजिटल पैसा है जो ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित है | आप सबसे लोकप्रिय बिटकॉइन और एथेरियम से परिचित हो सकते हैं, लेकिन इस समय प्रचलन में 5,000 से अधिक विभिन्न क्रिप्टोकरेंसी हैं | आप इसे ऑनलाइन करेंसी भी कह सकते हैं क्योंकि ये केवल ऑनलाइन एक्जिस्ट (Exists) करती है |

बिटकॉइन पहली क्रिप्टोकरेंसी थी, जिसे पहली बार 2008 में "बिटकॉइन: ए पीयर-टू-पीयर इलेक्ट्रॉनिक कैश सिस्टम" नाकामोटो द्वारा उल्लिखित किया गया था |

क्रिप्टोकरेंसी कैसे काम करती है (How Does Cryptocurrency Work) ?

आप नियमित सामान और सेवाओं को खरीदने के लिए क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कर सकते हैं, हालांकि अधिकांश लोग क्रिप्टोकुरेंसी में निवेश करते हैं | क्रिप्टोकुरेंसी एक रोमांचक संपत्ति वर्ग है, फिर भी इसे खरीदना जोखिम भरा हो सकता है आपको इसे पूरी तरह से समझने के लिए उचित मात्रा में शोध करना होगा कि प्रत्येक सिस्टम कैसे काम करता है |

ब्लॉकचेन क्या है (What Is Blockchain) ?

ब्लॉकचेन एक खुला, वितरित खाता बही है जो कोड में लेनदेन को रिकॉर्ड करता है| यह एक चेकबुक की तरह है जो दुनिया भर के अनगिनत कंप्यूटरों में वितरित की जाती है | लेन-देन "ब्लॉक" में दर्ज किए जाते हैं जो पिछले क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन की "श्रृंखला" पर एक साथ जुड़े होते हैं |

अफ्रीकी क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंज क्विडैक्स के सीईओ और सह-संस्थापक बुची ओकोरो कहते हैं, "एक किताब की कल्पना करें. "प्रत्येक पृष्ठ एक ब्लॉक के समान है, और संपूर्ण पृष्ठों का एक समूह एक ब्लॉकचेन है।"

धोखाधड़ी को रोकने के लिए, प्रत्येक लेनदेन की जांच दो मुख्य सत्यापन तकनीकों में से एक का उपयोग करके की जाती है: कार्य का प्रमाण या हिस्सेदारी का प्रमाण |

आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे कर सकते हैं (How Can You Use Cryptocurrency) ?

आप खरीदारी करने के लिए क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन यह अभी तक स्वीकृति के साथ भुगतान का एक रूप नहीं है | ओवरस्टॉक डॉट कॉम (Overstock.com) जैसे मुट्ठी भर ऑनलाइन खुदरा विक्रेता बिटकॉइन स्वीकार करते हैं, लेकिन यह आदर्श से बहुत दूर है |

जब तक क्रिप्टो अधिक व्यापक रूप से स्वीकार नहीं किया जाता है, तब तक आप उपहार कार्ड के लिए क्रिप्टोकुरेंसी का आदान-प्रदान कर सकते हैं | उदाहरण के लिए, eGifter पर, आप डंकिन डोनट्स, टारगेट, ऐप्पल के लिए उपहार कार्ड खरीदने के लिए बिटकॉइन का उपयोग कर सकते हैं और अन्य खुदरा विक्रेताओं और रेस्तरां का चयन कर सकते हैं | आप खरीदारी करने के लिए डेबिट कार्ड में क्रिप्टोकरेंसी लोड करने में भी सक्षम हो सकते हैं। यू.एस. (U.S) में, आप बिटपे कार्ड के लिए साइन अप कर सकते हैं, जो क्रिप्टो संपत्तियों को डॉलर में परिवर्तित करता है |

आप स्टॉक और बॉन्ड के रूप में भी क्रिप्टो का उपयोग कर सकते हैं | "सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टो, बिटकॉइन एक सुरक्षित मुद्रा है जो सोने की तरह मूल्य का भंडार बन गया है, कुछ लोग इसे 'डिजिटल गोल्ड' भी कहते हैं |"

सुरक्षित खरीदारी के लिए क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे करें (How to Use Cryptocurrency for Secure Purchases) ?

सुरक्षित रूप से खरीदारी करने के लिए क्रिप्टो का उपयोग करना इस बात पर निर्भर करता है कि आप क्या खरीदना चाह रहे हैं | यदि आप किसी खुदरा विक्रेता पर क्रिप्टोकुरेंसी खर्च करना चाहते हैं जो इसे सीधे स्वीकार नहीं करता है, तो आप यू.एस. में बिटपे जैसे क्रिप्टोकुरेंसी डेबिट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं |

यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति या खुदरा विक्रेता को भुगतान करने का प्रयास कर रहे हैं जो क्रिप्टोकुरेंसी स्वीकार करता है, तो आपको क्रिप्टोकुरेंसी वॉलेट की आवश्यकता होगी, जो एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो ब्लॉकचैन के साथ इंटरैक्ट करता है और उपयोगकर्ताओं को क्रिप्टोकुरेंसी भेजने और प्राप्त करने की अनुमति देता है |

अपने वॉलेट से पैसे ट्रांसफर करने के लिए, आप अपने प्राप्तकर्ता के क्यूआर कोड को स्कैन कर सकते हैं या मैन्युअल रूप से उनका वॉलेट पता दर्ज कर सकते हैं | कुछ सेवाएं आपको फ़ोन नंबर दर्ज करने या अपने फ़ोन से किसी संपर्क का चयन करने की अनुमति देकर इसे आसान बनाती हैं | क्रिप्टोकरेंसी के आधार पर, इसमें 10 मिनट से दो घंटे तक का समय लग सकता है |

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कैसे करें (How to Invest in Cryptocurrency) ?

क्रिप्टोकरेंसी को पीयर-टू-पीयर नेटवर्क और क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंजों पर खरीदा जा सकता है, जैसे कि कॉइनबेस (Coinbase) और बिटफिनेक्स (Bitfinex) | हालांकि, फीस पर नजर रखें, क्योंकि इनमें से कुछ एक्सचेंज छोटी क्रिप्टो खरीदारी पर अत्यधिक उच्च लागत वसूलते हैं | उदाहरण के लिए, कॉइनबेस, आपके लेन-देन के आकार के आधार पर आपकी खरीद का 0.5% शुल्क और $0.99 से $ 2.99 का एक फ्लैट शुल्क लेता है |

क्या है डिजिटल रुपया, डिजिटल पेमेंट से कितना है अलग? जानें इससे जुड़ी ये खास बातें

नई दिल्ली। 1 दिसंबर यानी आज से डिजिटल इंडिया (Digital India) के एक नए दौर की शुरुआत हो रही है. साइबर वर्ल्ड में आपने बहुत कुछ डिजिटल देखा होगा, लेकिन आज से RBI रुपये का भी डिजिटल रूप यानी Digital Rupee ला रहा है. हालांकि, इसे अभी पायलेट प्रोजेक्ट (pilot project) की तहत लॉन्च किया गया है, लेकिन इसे लेकर लोगों में मन में बहुत से सवाल हैं.

कोई इसे UPI पेमेंट समझ रहा है, तो कोई इसकी तुलना क्रिप्टोकरेंसी से कर रहा है. हालांकि, डिजिटल रुपया इन दोनों से काफी अलग है, लेकिन इन सब में कई समानताएं भी हैं, जो लोगों को कन्फ्यूज कर रही हैं.

कुछ लोग इसे हासिल करने की तरीका खोज रहे हैं. कुछ लोग तो खरीदने के तरीके भी पूछ रहे हैं. ऐसे ही कई सवाल के जवाब हम आपके लिए लेकर आए हैं, जिससे आप समझ सकेंगे कि डिजिटल रुपया है क्या और आप इसे इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें | Armed Forces Flag Day 2022: आज है भारतीय सशस्त्र सेना झंडा दिवस, जानें क्यों खास होता है ये दिन

क्या है डिजिटल रुपया?
सबसे पहले तो हमें ये समझना होगा कि डिजिटल रुपया क्या है? डिजिटल रुपया आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे कर सकते हैं आपके कैश का ही डिजिटल अवतार है. यानी जिस तरह से आप आज कैश पैसे को खर्च कर रहे हैं, उसी तरह से आप डिजिटल रुपये को भी खर्च कर सकेंगे. फिलहाल आरबीआई ने इसे पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर लॉन्च किया है.

UPI या डिजिटल पेमेंट से कितना अलग है?
आज के दौर में आप जो UPI पेमेंट करते हैं, ये सभी ट्रांजेक्शन डिजिटल (transaction digital) रूप में भले आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे कर सकते हैं ही होते हो, लेकिन सारा लेन देन कैश का ही. यानी आपने जो पेमेंट की है उसका तरीका सिर्फ डिजिटल था, लेकिन भुगतान कैश में ही हुआ है. अगर RBI इस पायलेट प्रोजेक्ट को पूरी तरह से लागू करता है, तो ये आने वाले वक्त में कैश ट्रांजेक्शन को रिप्लेस कर सकेगा.

इसे कैसे खरीद सकते हैं?
आप इसे खरीद नहीं सकते हैं. यानी डिजिटल रुपया (Digital Rupee) कोई चीज या क्रिप्टोकरेंसी नहीं है, जिसे आप खरीद सकते हैं. ये अपने आप में एक करेंसी है और सिर्फ इसका स्वरूप बदला हुआ है. आसान भाषा में कहें तो क्या आप रुपये को खरीदते हैं? नहीं ना, तो फिर आप डिजिटल रुपये को कैसे खरीद सकते हैं.

हां, भविष्य में इन्हें किसी दूसरी करेंसी से एक्सचेंज जरूर किया जा सकेगा. ये एक टोकन बेस्ड डिजिटल रुपया होगा, जो आपके डिजिटल वॉलेट में आएगा. आप इसे आसानी से ट्रांसफर भी कर सकेंगे, लेकिन इसे खरीद नहीं सकते हैं. बैंक आपको डिजिटल वॉलेट प्रोवाइड करेंगे और आप इससे ही अपने पैसे खर्च कर सकेंगे.

कहां से मिलेगा Digital Rupee टोकन? आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे कर सकते हैं
e₹-R डिजिटल टोकन के रूप में होगा. इसका इस्तेमाल पर्सन-टू-पर्सन और पर्सन-टू-मर्चेंट दोनों तरह के ट्रांजेक्शन में किया जा सकेगा. इसे जनरल पर्पज और होलसेल दो रूप में यूज किया जा सकेगा. 1 नवंबर को आरबीआई ने इसका पायलेट प्रोजेक्ट होलसेल सेगमेंट में लॉन्च किया था.

इसके लिए RBI ने फिलहाल 8 बैंकों को इस पायलेट प्रोजेक्ट के लिए सलेक्ट किया है. शुरुआत में इस सर्विस को चार शहरों- नई दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और भुवनेश्वर में लॉन्च किया जा रहा है.

8 बैंकों में शुरुआत में सिर्फ 4 बैंक ही इस पायलेट प्रोजेक्ट का हिस्सा होंगे. आरबीआई की लिस्ट में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, ICICI बैंक, Yes बैंक और IDFC First बैंक पहले चार प्लेयर हैं. वहीं बैंक ऑफ बड़ोदा, कोटक महिंद्रा बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और HDFC बैंक बाद में इस प्रोजेक्ट में शामिल होंगे.

क्या है डिजिटल रुपया का फायदा?
Digital Rupee के कई फायदे हैं, जिन्हें RBI फिलहाल एक्सप्लोर कर रहा है. सेंट्रल बैंक डिजिटल रुपया की मदद से फिजिकल कैश मैनेजमेंट (physical cash management) के ऑपरेशन कॉस्ट कम करना चाहता है. अभी नोट हो या फिर सिक्के इनकी छपाई में अच्छी खासी लागत खर्च होती हैं. वहीं मार्केट में कुछ वक्त के बाद ये खराब हो जाते हैं, तो बैंक को इसे भी मैनेज करना होता है.

दूसरी तरफ इन नोटों और सिक्कों को बैंक तक पहुंचाना भी एक खर्चीला प्रॉसेस होता है. इस पूरी प्रक्रिया में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को अच्छी रकम खर्च करनी होती है. डिजिटल रुपये के साथ इस तरह की कोई समस्या नहीं होगी.

ना तो बैंक को इसे छापना होगा, ना ही इनके फटने कटने का डर होगा. वहीं इसकी मदद से ऑनलाइन फ्रॉड्स को भी कम किया जा सकेगा. गलत ट्रांजेक्शन की वजह से होने वाले नुकसान को भी रोकने में मदद मिलेगी. चूंकि ये टेक्नोलॉजी ब्लॉकचेन पर बेस्ड होगी इसलिए इसके गलत अकाउंट में जाने की संभावना नहीं रहेगी.

क्रिप्टोकरेंसी क्या है? Cryptocurrency Kya Hai

क्रिप्टोक्यूरेंसी एक डिजिटल संपत्ति है जो अपने स्वामित्व की गारंटी और लेनदेन की अखंडता सुनिश्चित करने के लिए क्रिप्टोग्राफिक एन्क्रिप्शन का उपयोग करती है, और अतिरिक्त इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करती है, अर्थात, किसी को प्रतिलिपि बनाने से रोकती है, उदाहरण के लिए, एक तस्वीर के साथ। ये सिक्के भौतिक रूप में मौजूद नहीं हैं: इन्हें एक डिजिटल वॉलेट में संग्रहीत किया जाता है।

क्रिप्टोकरेंसी कैसे काम करती है?

पारंपरिक प्रणालियों की तुलना में क्रिप्टोकरेंसी में कई अलग-अलग विशेषताएं हैं: वे किसी भी संस्था द्वारा विनियमित या नियंत्रित नहीं होती हैं और उन्हें लेनदेन में बिचौलियों की आवश्यकता नहीं होती है। इन लेनदेन को नियंत्रित करने के लिए एक विकेन्द्रीकृत डेटाबेस, ब्लॉकचैन या साझा लेखा रिकॉर्ड का उपयोग किया जाता है।

विनियमन के बाद, क्रिप्टोकरेंसी को भुगतान का साधन नहीं माना जाता है, उनके पास केंद्रीय बैंक या अन्य सार्वजनिक प्राधिकरणों का समर्थन नहीं होता है और वे ग्राहक सुरक्षा तंत्र जैसे कि जमा गारंटी फंड या फंड निवेशक गारंटी द्वारा कवर नहीं होते हैं।

इन डिजिटल मुद्राओं के संचालन के संबंध में, यह याद रखना बहुत महत्वपूर्ण है कि एक बार क्रिप्टोकरेंसी के साथ लेनदेन हो जाने के बाद, यानी जब डिजिटल संपत्ति खरीदी या बेची जाती है, तो ऑपरेशन को रद्द करना संभव नहीं है क्योंकि ब्लॉकचेन एक रिकॉर्ड है। जो डेटा को हटाने की अनुमति नहीं देता है। लेन-देन को "रिवर्स" करने के लिए इसके विपरीत निष्पादित करना आवश्यक है।

चूंकि ये सिक्के भौतिक रूप से उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए आपको एक क्रिप्टोकुरेंसी डिजिटल वॉलेट सेवा का सहारा लेना होगा, जो उन्हें स्टोर करने के लिए विनियमित नहीं है।

डिजिटल वॉलेट कितने प्रकार के होते हैं?

एक डिजिटल पर्स या वॉलेट वास्तव में एक सॉफ्टवेयर या एप्लिकेशन है जहां क्रिप्टोकरेंसी को स्टोर करना, भेजना और प्राप्त करना संभव है। सच्चाई यह है कि एक भौतिक धन पर्स के विपरीत, जो वास्तव में पर्स या डिजिटल पर्स में संग्रहीत होता है, वह कुंजी है जो हमें स्वामित्व और क्रिप्टोकुरियों पर अधिकार देती है, और हमें उनके साथ काम करने की अनुमति देती है। दूसरे शब्दों में, क्रिप्टोकरेंसी को स्थानांतरित करने में सक्षम होने के लिए कुंजियों को जानना पर्याप्त है, और चाबियों के नुकसान या चोरी का मतलब क्रिप्टोकरेंसी की हानि हो सकती है, उन्हें पुनर्प्राप्त करने की संभावना के बिना।

दो प्रकार के पर्स होते हैं: गर्म और ठंडे होते हैं। दोनों के बीच अंतर यह है कि पूर्व इंटरनेट से जुड़े हैं, और बाद वाले नहीं हैं। इस प्रकार, हॉट वॉलेट के भीतर हमें वेब वॉलेट, मोबाइल वॉलेट और डेस्कटॉप वॉलेट मिलते हैं, बाद वाले तभी जब कंप्यूटर इंटरनेट से जुड़ा हो। इसके विपरीत, कोल्ड वॉलेट में हार्डवेयर वॉलेट और पेपर वॉलेट होते हैं, जो केवल कागज पर निजी कुंजी की छपाई है।

क्रिप्टोक्यूरेंसी का मूल्य कैसे निर्धारित किया जाता है?

क्रिप्टोकाउंक्शंस का मूल्य आपूर्ति, मांग और उपयोगकर्ता जुड़ाव के आधार पर भिन्न होता है। यह मूल्य प्रभावी तंत्र के अभाव में बनता है जो इसके हेरफेर को रोकता है, जैसे कि विनियमित प्रतिभूति बाजारों में मौजूद। कई मामलों में, कीमतों को समर्थन देने के लिए सार्वजनिक सूचना के बिना भी बनाया जाता है। हम अनुशंसा करते हैं कि आप क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के जोखिमों के बारे में बैंक ऑफ स्पेन और राष्ट्रीय प्रतिभूति बाजार आयोग (CNMV) के इस कथन को पढ़ें।

क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचेन का उपयोग करती हैं

क्रिप्टोक्यूरेंसी साझा खाता बही या ब्लॉकचेन के माध्यम से काम करती है। यह तकनीक उन्हें रोकने की क्षमता के साथ एक उच्च सुरक्षा प्रणाली प्रदान करती है, उदाहरण के लिए, कि एक ही डिजिटल संपत्ति को दो बार स्थानांतरित किया जा सकता है या इसे गलत ठहराया जा सकता है। ब्लॉकचेन तकनीक एक बड़े लेज़र की तरह काम करती है जहाँ भारी मात्रा में जानकारी को रिकॉर्ड और स्टोर किया जा सकता है। यह सब नेटवर्क पर साझा किया जाता है और इस तरह से संरक्षित किया जाता है कि इसके पास मौजूद सभी डेटा को बदला या हटाया नहीं जा सकता है।

क्रिप्टोकरेंसी माइन करने का क्या मतलब है?

यह अवधारणा इस प्रकार की डिजिटल आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे कर सकते हैं संपत्ति के माध्यम से किए गए संचालन को मान्य करने के लिए आवश्यक प्रक्रिया को संदर्भित करती है। उदाहरण के लिए, यदि हम बिटकॉइन मुद्रा का व्यावहारिक मामला लेते हैं: इसका खनन ब्लॉकचैन रजिस्ट्री में लेनदेन के सत्यापन और रिकॉर्डिंग पर आधारित होगा।

संक्षेप में, खनन क्रिप्टोकरेंसी का अर्थ है उत्पन्न होने वाली गणितीय समस्याओं को सफलतापूर्वक हल करना। जिन खनिकों ने इसे अंजाम दिया है, वे बदले में क्रिप्टोकरेंसी प्राप्त करते हैं।

क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार की होती है?

क्रिप्टोकरेंसी बनाने के लिए, क्रिप्टोग्राफी का ज्ञान होना या कम से कम यह जानना महत्वपूर्ण है कि प्रोग्राम कैसे किया जाता है, उस स्थिति में, किसी अन्य क्रिप्टोकरेंसी से कोड को क्लोन करने में सक्षम होने के लिए, और इस प्रकार इसे बनाने में सक्षम होना चाहिए। वर्तमान में, हजारों क्रिप्टोकरेंसी हैं, जिनमें से हम पाते हैं, उदाहरण के लिए, बिटकॉइन या ईथर।

बिटकॉइन क्या है?

बिटकॉइन वह नाम है जिसे पहली क्रिप्टोक्यूरेंसी प्राप्त हुई थी। यह 2009 से है और एक व्यक्ति या लोगों के समूह के हाथ से पैदा हुआ था, जो खुद को सातोशी नाकामोटो कहते थे, जो ब्लॉकचेन आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे कर सकते हैं तकनीक के तहत बिटकॉइन बनाने में कामयाब रहे, जिसका उन्होंने खुद आविष्कार किया था। बाकी क्रिप्टोकरेंसी की तरह इसके लिए भी किसी तरह का रेगुलेशन नहीं है।

आप बिटकॉइन कैसे खरीद सकते हैं?

हम विशेष पोर्टलों पर मुद्रा खरीदकर या विनिमय करके बिटकॉइन प्राप्त कर सकते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बिटकॉइन-या कोई अन्य क्रिप्टोकुरेंसी- जटिल उपकरण हैं, जो पर्याप्त ज्ञान के बिना लोगों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकते हैं, और जिनकी कीमत में एक उच्च सट्टा घटक होता है जिसका मतलब यह भी हो सकता है कि भुगतान किए गए धन का कुल नुकसान क्रिप्टोकरेंसी खरीदें।

यदि आप बिटकॉइन के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं, तो आप इस ओपनबैंक सामग्री तक पहुंच सकते हैं। इसके अलावा, यदि आप इस मुद्रा के आसपास की सभी जिज्ञासाओं को जानना चाहते हैं, तो आप फाइनेंस फॉर मॉर्टल्स की इस जानकारी पर जा सकते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है? और यह कैसे काम करती है? – What is Cryptocurrency in Hindi

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?, Cryptocurrency kya hai in Hindi, crypto Hindi, how cryptocurrency works, Cryptocurrency in India, cryptocurrency to buy, types of cryptocurrency, Cryptocurrency ki jankari hindi, popular cryptocurrency और जानेंगे कि लोग क्रिप्टोकरेंसी के बारे में जानने के लिए इतना उत्साहित क्यों है?

आज के इस डिजिटल युग और फ़ास्ट इंटरनेट के दौर में किसी भी जानकारी को प्राप्त करना इतना आसान हैं कि हर प्रकार की जानकारी लोगो तक इंटरनेट के माध्यम से एक दूसरे के द्वारा दूसरो तक पहुंच जाती है। क्रिप्टोकरेंसी उनमे से एक है जो काफी लोग Cryptocurrency के बारे में नहीं जानते या जानना चाहते है और Cryptocurrencies के पीछे भाग रहे हैं।

क्योकि Crypto currency वित्तीय बाजार में लोगो के बीच काफी लोकप्रिय हो रहा है। क्रिप्टोकरेंसी एक ऐसी Currency है जिसने बहुत ही कम समय में देश-विदेश के वित्तीय बाजार (financial market) में अपनी पकड़ काफी मजबूत बना ली हैं।

क्रिप्टो करेंसी का बाजार पूरी दुनिया में इतना तेजी से बढ़ रहा है आज हर तरफ crypto currency की चर्चा हो रही है। भारत जैसे इतने बड़े देश में भी Cryptocurrency में निवेश करने वाले निवेशकों की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है। इस समय भारत में लगभग 10 करोड़ क्रिप्टोकरेंसी निवेशक है।

जैसा कि आपको पता होगा क्रिप्टोकरेंसी एक Digital Money है इसे Digital Currency भी कहा जाता है। यह पूरी तरह से Virtual होता है Cryptocurrency को आप महसूस कर सकते है इसे आप अपने जेब या किसी लॉकर में बंद करके नहीं रख सकते है। क्रिप्टोकरेंसी केवल ऑनलाइन ही उपलब्ध है और हम इसका उपयोग किसी भी प्रकार के फिजिकली लेन-देन में नहीं कर सकते।

वही अगर दूसरी Currencies की बात करें जैसे : भारत में रुपया (Rupees), चीन में युआन (Yuan), USA में डॉलर (Dollar), यूरोप में यूरो (Euro) इत्यादि करेंसी को नोट और सिक्के के रूप में इस्तेमाल किया जाता है इन करेंसी को किसी देश की सरकार द्वारा जारी की जाती हैं और उसके बाद Currency को पूरे देश में लागू कर दिया जाता है।

इसी तरह क्रिप्टोकरेंसी को भी पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन यहाँ आपको यह जानने और समझने की जरुरत है कि Cryptocurrency के ऊपर किसी भी देश की सरकार का कोई नियंत्रण नहीं होता। क्रिप्टोकरेंसी विकेन्द्रीकृत (Decentrallized) करेंसी है इसलिए इनके ऊपर किसी देश की सरकार/ बैंक/ एजेंसी या बोर्ड का कोई अधिकार नहीं होता। जिसके कारण क्रिप्टोकरेंसी के मूल्य को विनियमित (Regulate) नहीं किया जा सकता।

दोस्तों जैसा कि पूरी दुनिया में Cryptocurrency kya hai के बारे में काफी चर्चा हो रही है लोग इस विषय के बारे में जानना चाहते है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने इस लेख में Cryptocurrency के विषय के बारे में बताने का प्रयास किया है जिसे आपको अवश्य जानना चाहिए, Cryptocurrency क्या है? तो चलिए शुरू करते है और जानते है कि क्रिप्टोकरेंसी क्या होती है?

कैसे खरीदते हैं क्रिप्टोकरेंसी और कहां करते हैं स्टोर, भारत में क्या है लीगल स्टेटस? यहां जानें हर बात

क्रिप्टोकॉइन्स और टोकन्स आप अपने क्रिप्टो वॉलेट में स्टोर कर सकते हैं. क्रिप्टो वॉलेट्स तीन तरह के होते हैं- हॉट, कोल्ड और पेपर वॉलेट.

  • Paurav Joshi
  • Publish Date - October 14, 2021 / 03:52 PM IST

कैसे खरीदते हैं क्रिप्टोकरेंसी और कहां करते हैं स्टोर, भारत में क्या है लीगल स्टेटस? यहां जानें हर बात

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर आजकल खूब चर्चा हो रही है. बिटक्वॉइन (Bitcoin) के एक क्रिप्टोकरेंसी है. क्रिप्टोकरेंसी शुरुआत में बस प्रोग्रामर्स और डेवलपर्स के दिलचस्पी की चीज थी, लेकिन अब इसकी पॉपुलैरिटी इतनी बढ़ गई है कि अब सामान्य व्यक्ति भी इसमें निवेश करने की सोच रहा है. इस आर्टिकल में हमको आप इसी क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) के बारे में विस्तार से बारे में बताएंगे.

क्रिप्टो कैसे खरीदें और बेचें?

बाजार में ढेरों क्रिप्टो एक्सचेंज प्लेटफॉर्म्स हैं. ऐसे में देश में Bitcoin और Dogecoin जैसी क्रिप्टोकरेंसी को खरीदना और बेचना काफी आसान है. देश में मौजूद पॉपुलर प्लेटफॉर्म्स में WazirX, Zebpay, Coinswitch Kuber और CoinDCX GO के नाम शामिल हैं. इन्वेस्टर्स Coinbase और Binance जैसे इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म्स से Bitcoin, Dogecoin और Ethereum जैसी दूसरी क्रिप्टोकरेंसी भी खरीद सकते हैं.

शेयर बाजारों के उलट, ये सभी प्लेटफॉर्म चौबीसों घंटे काम करते हैं. इसका मतलब ये है कि आप हफ्ते में किसी भी दिन और दिन के किसी भी समय पैसे का निवेश और निकासी कर सकते हैं. क्रिप्टोकरेंसी को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया भी काफी आसान है. आपको केवल इन प्लेटफॉर्म्स पर साइन अप करना होगा. इसके बाद अपना KYC प्रोसेस पूरा कर वॉलेट में मनी ट्रांसफर करना होगा. इसके बाद आप खरीदारी कर पाएंगे. इन्वेस्टर्स के पास क्रिप्टो की खरीदी-बिक्री के लिए प्री-डिसाइडेड लिमिट सेट करने का भी ऑप्शन होगा.

एक्सचेंज का इस्तेमाल करना

सभी बड़े एक्सचेंज लगभग एक ही प्रोसेस फॉलो करते हैं. आपको एक अकाउंट बनाने की जरूरत होगी, फिर भारत स्थित एक्सचेंज आपको KYC वेरिफिकेशन करने को बोलेंगे. जिसके बाद आप ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं. इसके आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग कैसे कर सकते हैं लिए आप अपना बैंक अकाउंट अपने क्रिप्टो अकाउंट से लिंक कर सकते हैं. या फिर ट्रांजैक्शन के लिए सीधे डेबिट/क्रेडिट कार्ड या नेटबैंकिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं. जब लॉगइन और अकाउंट सेटअप का पूरा प्रोसेस कंप्लीट हो जाएगा, तो आपका एक्सचेंज आपको पहला ऑर्डर प्लेस करने के लिए नोटिफाई कर देगा.

क्रिप्टोकरेंसी स्टोर कैसे करें?

अगर आप किसी भी क्रिप्टोकरेंसी की कीमत पर नजर डालें तो देखेंगे कि बिटकॉइन और एथर जैसे कॉइन्स ने लंबे समय में ज्यादा रिटर्न दिया है. इसका मतलब है कि उनकी वैल्यू बढ़ने तक के लिए आपको इन्हें स्टोर करना होगा. क्रिप्टोकॉइन्स और टोकन्स आप अपने क्रिप्टो वॉलेट में स्टोर कर सकते हैं. क्रिप्टो वॉलेट्स तीन तरह के होते हैं- हॉट, कोल्ड और पेपर वॉलेट. इनमें से आपको कोई भी वॉलेट अपनी जरूरत के हिसाब से चूज़ करना होगा.

भारत में क्रिप्टोकरेंसी का लीगल स्टेटस

भारत में क्रिप्टोकरेंसी के लीगल स्टेटस को लेकर बहुत कन्फ्यूजन है. ऐसा इसलिए क्योंकि सरकार ने इस साल की शुरुआत में एक बिल प्रस्तावित किया था, जिसमें Bitcoin और Dogecoin सहित सभी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लगाने का प्रावधान था. हालांकि, बाद में इसमें और कोई डेवलपमेंट नहीं हुआ. एक हालिया रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया था कि सरकार ने क्रिप्टोकरेंसी को पूरी तरह से बैन करने का आइडिया ड्रॉप कर दिया है.

रेटिंग: 4.74
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 521